NCERT Hindi Class 10 Chapter 15 Ab Kahan Dusre Ke Dukh Main Dukhi Hone Wale CBSE Board Sample Problems Long Answer (For CBSE, ICSE, IAS, NET, NRA 2022)

Get top class preparation for CBSE right from your home: fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

1 बढ़ती हुई आबादी का पर्यावरण पर क्या प्रभाव पड़ा?

उत्तर-बढ़ती हुई आबादी के कारण पर्यावरण असंतुलित हो गया है। निवास के स्थान को बढ़ाने के लिए वन जंगल यहाप तक कि समुद्र स्थलों को भी छोटा किया जा रहा है। पशु पक्षियों के लिए स्थान नहीं है। इन सब कारणों से प्राकृतिक संतुलन बिगड़ गया है और प्राकृतिक आपदाएप बढ़ती जा रही हैं। कहीं भूकंप, कहीं बाढ़, कहीं तूफान, कभी गर्मी, कभी तेज वर्षा इन के कारण कई बीमारियाप हो रही हैंं। इस तरह पर्यावरण के असंतुलन का जन जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ा है।

2 समद्र के गुस्से की क्या वजह थी उसने अपना गुस्सा कैसे निकाला?

उत्तर- कई सालों से बिल्डर समुद्र को पीछे धकेल रहे थे और उसकी जमीन हथिया रहे थे। समुद्र सिमटता जा रहा था। उसने पहले टापगे समेटी फिर उकडू बैठा फिर खड़ा हो गया। फिर भी जगह कम पड़ने लगी जिससे वह गुस्सा हो गया। उसने गुस्सा निकालने के लिए तीन जहाज फेंक दिए। एक वार्ली के समुद्र के किनारे, दूसरा बांद्रा में कार्टर रोड के सामने और तीसरा गेट वे ऑफ इंडिया पर टूट फूट गया।

3 बिगड़ते पर्यावरण के लिए हम कितने उत्तरदायी है कैसे कहा जा सकता है कि अब प्रकृति की सहनशक्ति की सीमा समाप्त हो चुकी है?

उत्तर-प्रकृति में आए बदलाव के लिए हम सर्वाधिक उत्तरदायी हैं। अपनी सुविधा एवं स्वार्थ से वशीभूत होकर मनुष्य अनवरत प्रकृति का दोहन करता चला जा रहा है इससे प्राकृतिक असंतुलन बनने लगा है। अब कहाप दूसरों के दुख से दुखी होने वाले रचना के माध्यम से लेखक ने समुद्र के गुस्से की घटना का उल्लेख उदाहरण स्वरूप प्रस्तुत किया है।

4 ‘अब कहाप दूसरों के दुख से दुखी होने वाले’ पाठ के माध्यम से लेखक ने क्या संदेश दिया है आज के संदर्भ में यह महत्वपूर्ण क्यों है समझाइए।

उत्तर- पहले सभी मिलकर परिवार की तरह रहते थे। दूसरे मनुष्य को ही नहीं पशु-पक्षियों को भी कष्ट नहीं देते थे और अंजाने में भी गलती हो जाती तो प्रायश्चित करते थे परन्तु अब अपने स्वार्थ के लिए किसी का अहित करने में भी नहीं हिचकते। फिर प्राणियों के लिए दया प्रेम स्नेह व सहयोग का भाव उत्पन्न होना चाहिए। क्योंकि आज अनेकता स्वार्थ निरंतर बढ़ता जा रहा है।

5 जो जितना बड़ा होता है उसे उतना कम गुस्सा आता है। ‘अब कहाप दूसरे के दुख से दुखी होने वाले’ पाठ के आधार पर सोदाहरण आशय स्पष्ट कीजिए।

उत्तर-जो जितना बड़ा होता है, उसे उतना ही कम गुस्सा आता है पर जब आता है तो रोकना कठिन होता है। जैसे सागर की जमीन हथियाने पर वह सिमटता रहा पर जब सहनशक्ति ने जवाब दे दिया तो तीन जहाज़ों को उठा कर अलग-अलग दिशाओं में फेंक दिया।