हिन्दी (स्पर्श) (पाठ 1) (प्रेमचन्द्र-बड़े भाई साहब) (कक्षा 10) खंड-ग आशय स्पष्ट कीजिए

प्रश्न 1:

इम्तिहान पास कर लेना कोई चीज नहीं है असल चीज है बुद्धि का विकास।

उत्तर 1:

बड़े भैया के अनुसार केवल परीक्षा में पास कर लेने से कुछ हासिल नहीं होता है। साथ में दिमाग का विकास होना भी जरूरी होता है। जो किसी भी परीक्षा से नहीं होता है। बृद्धि के विकास के लिए तो केवल अनुभव और परिश्रम का होना बहुत जरूरी होता हैं। अर्थात दिमाग का विकास केवल अनुभव और मेहनत से ही होता हैं, तभी व्यक्ति अपने अनुभव के आधार पर दुनिया में आगे बढ़ पाता हैं।

प्रश्न 2 :

फिर भी जैसे मौत और विपत्ति के बीच भी आदमी मोह और माया के बंधन में जकड़ा रहता हैं, मैं फटकार और घुड़कियां खाकर भी खेल -कूद का तिरस्कार न कर सकता था।

उत्तर 2:

छोटे भाई को खेल अधिक पंसद था और वह अपने बड़े भाई का आदर व सम्मान भी करना चाहता था। इसलिए जैसे मृत्यु और कठिनाई के बीच मनुष्य मोह और माया के बंधन में पड़ा रहता है ठीक वैसी ही स्थिति लेखक की थीं। वह अपने बड़े भाई की डांट खाने के बाद भी खेलना कूदना नहीं छोड़ सकता था। इसलिए लेखक बड़े भाई के सम्मान के खातिर छिपकर खेलता था ताकि उनके सम्मान को कोई ठेस न पहुंच सके।

प्रश्न 3 :

बुनियाद ही पुख्ता न हो तो मकान कैसे पायेदार बने?

उत्तर 3:

लेखक का अपने अपने बड़े भाई के बारे में कहना है कि बड़े भैया अपने अनुभव को बढ़ाने के लिए प्रत्येक कक्षा में दो या तीन वर्ष लगाते थे क्योंकि भाई के मन में ’बुनियाद ही पुख्ता न हो तो मकान कैसे मजबूत रहेगा’ यही बात रहती थी अर्थात अगर मकान की नींव ही मजबूत नहीं होगी तो मकान कमजोर ही रहेगा और वह कभी भी घिर कर बिखर सकता है। उनकी यही बात लेखक के मन में हमेशा के लिए बैठ गई थी।

प्रश्न 4

आंखे आसमान की ओर थीं और मन उस आकशगामी पथिक की ओर, जो मंद गति से झूमता पतंग की ओर चला आ रहा था, मानों कोई आत्मा स्वर्ग से निकलकर विरक्त मन से नए संस्कार ग्रहण करने जा रही हो।

उत्तर 4

यहां लेखक ने बाल विज्ञान रूपी मन का बड़ी ही सुंदर रूप से चित्र प्रस्तुत किया है। लेखक जब कनकौए के पीछे दौड़ रहा था, तब उसकी आंखे आसमान पर केन्द्रित थीं। पतंग जब नीचे की ओर आ रही थीं तब ऐसा लग रहा था मानो कोई आत्मा स्वर्ग निकलकर विरक्त मन अर्थात अलग मन से इस धरती पर नए संस्कार ग्रहण करने जा रही हो। अर्थात नव संस्कार पाने जा रही हो।

Explore Solutions for Hindi

Sign In