NCERT Class 9 Hindi Chapter 6 Part 1 कक्षा 9 एनसीईआरटी पाठ-6

Download PDF of This Page (Size: 168K)

प्रश्न 1

’इस विजन में..............अधिक है’-पंक्तियों में नगरीय संस्कृति के प्रति कवि का क्या आक्रोश है और क्यों?

उत्तर -इन पंक्तियों के माध्यम से कवि ने नगर के मतलबी रिश्तों पर प्रहार करते हुए कहा है कि यहाँ शहर जैसा स्वार्थ नहीं है। यहाँ के लोगों के बीच एक दूसरे के प्रति सच्चा प्रेम है, सच्ची सहानुभूति है। गाँव से विपरीत शहर के लोगों में स्वार्थी प्रवृत्ति अधिक देखने को मिलती है, यहाँ से मनुष्यों का आपसी प्रेम व्यवहार लुप्त होता जा रहा है। इसलिए कवि ने नगरीय संस्कृति के प्रति अपना आक्रोश व्यक्त किया है।

प्रश्न 2 सरसों को ’सयानी’ कहकर कवि क्या कहना चाहता होगा?

उत्तर -यहाँ सरसों के ’सयानी’ होने का तात्पर्य उसकी फसल के पक जाने से है। अर्थात्‌ सरसों की फसल अब परिपक्व होकर कटने को तैयार है।

प्रश्न 3 अलसी के मनोभावों का वर्णन कीजिए।

उत्तर - कवि ने अलसी को एक सुंदर नायिका के रूप में चित्रित किया है। उसका चित्त अत्यंत चंचल है। वह अपने प्रियतम से मिलने को आतुर है तथा प्रथम स्पर्श करने वाले को हृदय से अपना स्वामी मानने के लिए तत्पर है।

प्रश्न 4-अलसी के लिए ’हठीली’ विशेषण का प्रयोग क्यों किया गया है?

उत्तर -कवि ने ’अलसी’ के लिए ’हठीली’ विशेषण का प्रयोग करके उसके चरित्र पर प्रकाश डाला है। क्योंकि वह चने के पौधों के बीच इस प्रकार उग आई है मानों ज़बरदस्ती वह सबको अपने अस्तित्व का परिचय देना चाहती है। उसके सर पर उगे हुए नीले फूल उसकी इस हठीली प्रवृत्ति को परिभाषित करते प्रतीत होते हैं।

प्रश्न 5-’चाँदी का बड़ा-सा गोल खंभा’ में कवि की किस सूक्ष्म कल्पना का आभास मिलता है?

उत्तर -

’चाँदी का बड़ा-सा गोल खंभा’ में कवि का तात्पर्य नगर के सुख-सुविधा तथा स्वार्थपूर्ण जीवन से है, जिसे पाकर भी लोगों की इच्छाएँ खत्म नहीं होती हैं।

चाँदी के बड़े खंभे के माध्यम से कवि ने मानव प्रवृत्ति का अत्यंत सूक्ष्म वर्णन किया है।