CBSE Summary कक्षा-9 अध्याय-13 पृष्ठीय क्षेत्रफल और आयतन (Surface Areas and Volumes)

Get unlimited access to the best preparation resource for CBSE : fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

Download PDF of This Page (Size: 163K)

पृष्ठीय क्षेत्रफल और आयतन (Surface Areas and Volumes)

जब दो ठोस आकृति संयोजित हो या एक ठोस आकृति को घन, घनाभ, बेलन, शंकु अथवा गोलाकह पाना मुश्किल हो, तो उसे ऐसे टुकडों में तोड़ लेते हैं जिसका क्षेत्रफल हम ज्ञात कर सकते हैं। फिर सभी टुकडों का क्षेत्रफल अलग-अलग ज्ञात करो और सभी क्षेत्रफलों को जोड़लो।

शंकु की त्रिज्याको r, तिर्यक ऊँचाई को l और ऊँचाई को h माना जाए तो पाइथागोरस प्रमेय की सहायता से इनमें से कोई भी अज्ञात भुजा को ज्ञात किया जा सकता है।

शंकु का छिन्नक

  • जब एक शंकु को उसके आधार के समांतर किसी भी तल सेकाटकर अलग कर देते हैं, तो ऊपरी भाग एक छोटा शंकु होता है और निचला भाग शंकुका छिन्नक कहलाता है।

  • किसी बर्तन या वस्तु में भरे जा सकने वाली मात्रा को उस वस्तुका आयतन कहते हैं। आयतन को धारिता भी कहते हैं।

  • शंकुके छिन्नक का वक्रपृष्ठीय क्षेत्रफल

शंकुके छिन्नक का कुल पृष्ठीय क्षेत्रफल

शंकुके छिन्नक का आयतन =

Developed by: